रविवार, 23 जून 2019

Raj Babbar Birthday : - राज बब्बर की लव स्टोरी | Happy Birthday Raj Babbar

Raj Babbar Birthday : - राज बब्बर की लव स्टोरी | Happy Birthday Raj Babbar





Raj Babbar Birthday : - राज बब्बर की लव स्टोरी | Happy Birthday Raj Babbar









राज बब्बर ने स्मिता पाटिल से दूसरी शादी की थी. इसके लिए उन्हें खूब पापड़ बेलने पड़े थे. स्मिता की मां इस शादी के सख्त खिलाफ थीं और नहीं चाहती थीं कि उनकी बेटी की शादी, राज बब्बर से हो जो पहले से ही शादीशुदा थे और पिता भी थे.
स्मिता पाटिल के साथ राज बब्बर का अफेयर 80 के दशक में सबसे सनसनीखेज सुर्खियों में रहने वाले किस्सों में से एक था। पूरा एपिसोड तब हुआ जब राज बब्बर पहले ही नादिरा ज़हीर से शादी कर चुके थे। राज बब्बर ने एक पत्नी के होते हुए स्मिता पाटिल से शादी कर ली। हांलाकि नादिरा ने दोनों के अफेयर को स्वीकार कर लिया था लेकिन लोगों ने स्मिता पर घर तोड़ने का आरोप लगाया और काफी कीचड़ उछाला, पर राज डटे रहे औऱ आखिरी सांस तक उन्होंने स्मिता का साथ नहीं छोड़ा। एक्टर प्रतीक बब्बर राज और स्मिता का ही बेटा है। 31 साल की छोटी उम्र में स्मिता पाटिल का 13 दिसंबर 1986 में निधन हो गया। 





फ़िल्म सफ़र





राज बब्बर की जिंदगी और उनके फ़िल्मी सफ़र की तरफ नज़र डालें तो पाएंगे कि फिल्मों में अलग-अलग किरदार निभाने वाला ये अभिनेता अपने साथ एक ऐसी फ़िल्मी कहानी लेकर चल रहा है] जिसको लिख पाना बड़े-बड़े दिग्गज लेखकों के वश की बात नहीं.
बॉलीवुड में राज बब्बर (Raj Babbar) को ऐसे अभिनेता के तौर पर शुमार किया जाता है, जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ ही व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी।





वार्ता के मुताबिक राज बब्बर का जन्म 23 जून 1952 को हुआ। वर्ष 1975 में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद बतौर अभिनेता बनने का सपना लिये वह मुंबई आ गये। मुंबई आने के बाद मुख्य अभिनेता के रूप में अपनी पहचान बनाने के लिये उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। इस दौरान वह निर्माता-निर्देशक प्रकाश मेहरा के ऑफिस में एक छोटे से कमरे में रहकर संघर्ष किया करते थे।






शुक्रवार, 21 जून 2019

International yoga day 2019 :- अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के महत्व

International yoga day 2019 :- अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 | अंतर्राष्ट्रीय
योग दिवस के महत्व





Yoga Day kyo Manaya jata hai?





11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की. इसके बाद 2015 से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस दुनिया भर में मनाया जाता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए योग के महत्व पर चर्चा की थी.





योग का अभ्यास हमारे देश में प्राचीन काल से होता आया है. लेकिन धीरे-धीरे लोग इसके महत्व को भूल गए और यह कुछ लोगों तक ही सीमित रह गई. लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों में जागरुकता लाने के लिए 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' की शुरूआत की.





इसकी पहल प्रधानमंत्री मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी. उन्होंने योग के महत्व को बताते हुए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करने की बात कही थी. जिसके बाद 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया. पिछले साल 21 जून को ये पहली बार मनाया गया था.





योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य है; विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करने वाला है। यह व्यायाम के बारे में नहीं है, लेकिन अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है। हमारी बदलती जीवन- शैली में यह चेतना बनकर, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है। तो आयें एक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करते हैं।


मंगलवार, 18 जून 2019

Google AdSense ka best alternative ad network | google adsense alternatives | by techno Shailesh

इस पोस्ट में मैं आपको Google advertising के best ad network के बारे में बताऊंगा जो की AdSense alternative ad network हैं जिससे आप online money earning कर सकते हैं।

Google AdSense ka best alternative ad network | google adsense alternatives | by techno Shailesh

Google AdSense ka best alternative ad network | google adsense alternatives | by techno Shailesh


नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शैलेश तिवारी है। और मैं आज आप लोगों को Google ke alternative ads network के बारे में बताने जा रहा हूं यह ads network Google के ads को ही दिखाता है।
ऐसे बहुत से लोग हैं। जिनका Google AdSense account disable हो जाता है। और वह लोग earning नहीं कर पाते हैं। उनके लिए यह ads network एक best option हो सकता है।
तो चलिए इस ads network के बारे में बारीकी से समझते है।
तो सबसे पहले अपने किसी browser को open करिए और टाइप करिए adsmilla.com और search कर दीजिए अब आपके सामने adsmilla.com खुलकर सामने आ जाएगी।

Sign up कैसे करेंगे?

Sign up करने के लिए सबसे पहले आपको publisher पर क्लिक करना होगा। उसके बाद register पर क्लिक करिए। उसके बाद ऊपर 3dot पर क्लिक करना होगा अब आपके सामने एक form open होगा। उस form को fill करिए। और उसके बाद register पर क्लिक कर दीजिए। अब आप के ईमेल आईडी पर एक confirm link गया होगा, अब इस लिंक पर क्लिक करके अपना account confirm कर लीजिए।
अब अपने account में Login कर लीजिए।

Website कैसे add करें?

अब आपके सामने adsmilla.com का डैशबोर्ड open होगा। अब आपको Right corner में दो 3dot देख रहे होंगे। अब आप सीकेंड 3dot पर क्लिक करिए। अब आपके सामने एक sites का option दिख रहा होगा। sites वाले option पर क्लिक करिए। अब add site पर क्लिक करिए। अब आपके सामने एक form open होगा। उसमें अपने site की details को भरिए। और submit बटन पर क्लिक करिए।

Ad code को कैसे generate करें?

Ad code को generate करने के लिए वापस से सीकेंड 3dot पर क्लिक करिए। उसके बाद Ad codes पर क्लिक करिए। create पर क्लिक करिए। अब अपने साइड का विवरण दीजिए और create Ad code बटन पर क्लिक करें। अब आपका Ad code तैयार हैं। Ad code को copy कर लीजिए और अपने साइड के लेआउट में ले जाकर जिस जगह पर ऐड दिखाना हो वहां पर paste कर दीजिए। आपका ऐड दिखना शुरू हो जाएगा।

Payout option कहां पर है?

Payout लेने के लिए first वाले 3dot पर क्लिक करेंगे और account option पर क्लिक करेंगे। उसके बाद वापस से सीकेंड 3dot पर क्लिक करेंगे। Payout option पर क्लिक करेंगे। उसके बाद configure पर क्लिक करेंगे।

withdrawal option

(1). UPI
(2). Paytm
(3). Bank
(4). PayPal

Click Here To Join Adsmilla

सोमवार, 10 जून 2019

Bharat 2019 full movie Download in HD | Tamilrockers 2019 Bharat full movie download

Bharat 2019 full movie Download in HD | Tamilrockers 2019 Bharat full
movie download

Bharat 2019 full movie Download in HD | Tamilrockers 2019 Bharat full movie download

Bharat Movie Review: Salman Khan की सुपरहिट ईद, मिले इतने स्टार्स

कलाकार- सलमान खान, कटरीना कैफ, दिशा पाटनी, सुनील ग्रोवर व अन्य।

निर्देशक - अली अब्बास जफर

निर्माता - अतुल अग्निहोत्री

स्टार्स - 3.5 स्टार

मूवी टाइप - ऐक्शन, ड्रामा

अवधि - 2 hours 35 minutes

मूवी रिव्यू

निर्देशक अली अब्बास जफ़र और सलमान खान की जुगलबंदी अब तक बॉक्स ऑफिस पर सफलता की गारंटी साबित हुई है और यही वजह है कि 'सुल्तान' और 'टाइगर जिन्दा है' जैसी ब्लॉक बस्टर फिल्में देने के बाद इस बार इस जोड़ी ईद जैसे फेस्टिवल पर सलमान के फैन्स का दिल जीतने के लिए इमोशंस और पारिवारिक मूल्यों से सजी 'भारत' लाए हैं। फिल्म बेशक थोड़ी लंबी और 80 के दशक के नुस्खों से बुनी हुई महसूस होती है, मगर भाई के चाहनेवाले नौजवान से लेकर 70 साल के बूढ़े के रूप में उनकी हर अदा पर फिदा होंगे।

कहानी

जितने सफेद बाल मेरे सिर और दाढ़ी में हैं, उससे कहीं ज्यादा रंगीन मेरी जिंदगी रही है' इस डायलॉग के साथ भारत (सलमान खान) का सफर शुरू होता है। 70 वर्षीय भारत अपनी दुकान को बिकने से बचाने के लिए गुडों से लड़ते हैं क्योंकि उस दुकान से उनकी भावनाएं जुड़ी हैं और कुछ कहानी भी। यह कहानी बताने के लिए फिल्म हमें लगभग 60 साल पीछे ले जाती है। फिल्म के शुरुआत में पहले रियल लाइफ से होती है, लेकिन बात फ्लैशबैक स्टोरी की होती है। फिल्म के पहले पार्ट की शुरुआत भारत (सलमान खान) की कहानी पिता (जैकी श्रॉफ) के साथ फ्लैश बैक 1947 से शुरू होती है। बंटवारे के दौरान वह पिता और अपनी छोटी बहन से बिछड़ जाता है। मगर बिछड़ने से पहले भारत ने अपने पिता को वचन देता है कि जब तक उसके पिता वापस नहीं लौटते वह अपनी मां (सोनाली कुलकर्णी), अपनी छोटी बहन और छोटे भाई का ख्याल रखेगा। अब भारत अपने पिता से किए गए वादे को पूरा करते हुए परिवार की जिम्मेदारी उठाता है। अपनी फैमली को जिंदा रखने के लिए भारत एक सर्कस कंपनी ज्वाइन करता है, जहां उसकी मुलाकात राधा (दिशा पटानी) के साथ से होती है। ''भारत'' में 1947 से लेकर 2010 तक का समय दिखाया गया है। इस दौरान भारत कई तरह और अलग-अलग तरह नौकरियां करता है। इन्हीं सब के बीच एक बार भारत की मुलाकात कुमुद (कैटरीना कैफ) से होती है, जो कि खुले विचार वाली मजबूत किरदार के रूप में सामने आती हैं। कुमुद भारत को एक नौकरी देती हैं। इसी बीच मुकुद को भारत से प्यार हो जाता है। लेकिन भारत अपने फर्ज को पूरा करने के वासते कुमुद से शादी करने से इंकार कर देता है। ऐसे में कैटरीना हार नहीं मानती और वह सलमान के घर रहने के लिए चली जाती हैं। इस दौरान सलमान-कैटरीना की कैमिस्ट्री फिल्म में देखते बनती है। कुमुद की एंट्री के बाद क्या भारत अपने बिछड़े पिता और छोटी बहन को ढूंढ़ पाएगा? क्या कुमुद के प्यार में पड़कर भारत अपने पिता से किए गए वादे को निभा पाएगा? फिल्म का यही स्पेंस और इमोशन फिल्म की कड़ी को आगे बढ़ता है। भारत और उसके पिता की मिलन दोबारा हुआ या नहीं यह जानने के लिए आपको सिनेमाघर में जाना पड़ेगा।

गाना

विशाल-शेखर के संगीत में फिल्म का गाना 'स्लो मोशन' रेडिओ मिर्ची के टॉप ट्वेंटी चार्ट में नंबर वन के पायदान पर है। इसी फिल्म का गाना 'चाशनी' नंबर आठ परपर अपनी जगह बनाने में कामयाब रहा है।

क्यों देखें

पारिवारिक मूल्यों वाली और इमोशन से भरपूर इस फिल्म को भाई के फैन ईद का तोहफा समझकर देख सकते हैं।

रविवार, 9 जून 2019

जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा 2019 | रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है - jagannaath puree rath yaatra 2019 | rath yaatra kyon manaaya jaata hai






जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा 2019 | रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है - jagannaath puree rath yaatra 2019 | rath yaatra kyon manaaya jaata hai

 रथ यात्रा




रथ यात्रा (Rather yatra)

रथ यात्रा का पर्व भारत के प्रमुख पर्वों में से एक है और देश भर में इसे काफी श्रद्धा तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है परन्तु इसका सबसे भव्य आयोजन उड़ीसा राज्य के जगन्नाथपुरी में देखने को मिलता है। पुरी स्थित जगन्नाथपुरी मंदिर भारत के चार धामो में से एक है।
यह भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से भी एक है और यहां भगवान श्रीकृष्ण, बलराम और उनकी बहन देवी सुभद्रा की पूजा की जाती है। यह रथ यात्रा आषाढ़ माह की शुक्लपक्ष की द्वितीया तिथि को आरम्भ होती है। इस दिन भारी संख्या में भक्तगण रथ यात्रा उत्सव में सम्मिलित होने के लिए देश-विदेश से पुरी खिंचे चले आते हैं।




रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है? (Why Do We Celebrate Rath Yatra)


पुराणों में जगन्नाथ पुरी को धरती का बैकुंठ कहा गया है. ब्रह्म और स्कंद पुराण के अनुसार, पुरी में भगवान विष्णु ने पुरुषोत्तम नीलमाधव के रूप में अवतार लिया था. वह यहां सबर जनजाति के परम पूज्य देवता बन गए.आषाढ़ महीने की द्वितीय तिथि को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का उत्सव मनाया जाता है. अहमदाबाद में रथयात्रा का शुभारंभ भगवान जगन्नाथ के मुख्य मंदिर से शुरू होता है, जिसके बाद ये रथयात्रा सरसपुर के रणछोड़दास मंदिर तक जाती है। इसके अलावा ओडिशा के पुरी में भी भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू हो जाती है।


इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ को साल में एक बार उनके गर्भ गृह से निकालकर यात्रा कराई जाती है. भगवान जगन्नाथ के साथ भगवान कृष्ण, उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा को भी रथ में बैठाकर यात्रा कराई जाती है। ये उत्सव पूरे 9 दिनों तक मनाया जाता है. यात्रा के पीछे यह मान्यता है कि भगवान अपने गर्भ गृह से निकलकर प्रजा के सुख-दुख को खुद देखते है।




रथ यात्रा का महत्व (Significance of Rath Yatra)


हिंदू धर्म के चार धामों में जगन्नाथ पुरी (Jagannath Puri) बहुत महत्व रखता है, अन्य तीन हैं- बद्रीनाथ, द्वारिका और रामेश्वरम।  आदि शंकराचार्य जब यहां पधारे तो उन्होंने गोवर्धन मठ की स्थापना की। तब से पुरी को सनातन धर्म के चार धामों में एक माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान विष्णु पुरी में भोजन करते हैं, रामेश्वरम में स्नान करते हैं, द्वारका में शयन करते हैं और बद्रीनाथ में ध्यान करते हैं। पुरी में भगवान जगन्नाथ के दर्शन किए बिना धामों की यात्रा अधूरी मानी जाती है।


शनिवार, 8 जून 2019

समास किसे कहते हैं? समास के कितने भेद होते हैं - samas Kise kehte hain । samas Ke Kitne Bhed Hote Hain


समास किसे कहते हैं? समास के कितने भेद होते हैं - samas Kise kehte hain । samas Ke Kitne Bhed Hote Hain

समास

दो या दो से अधिक शब्दों के मिलने से बने शब्द को 'सामामिक पद' या 'सामस' कहते हैं।
समास के भेद समास के छह भेद होते हैं

1. अव्ययीभाव समास - जिस सामासिक शब्द में प्रथम पद प्रधान और पूरा पद अव्यय होता है, उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं; जैसे
         
      यथाशक्ति - शक्ति के अनुसार
      यथाशीघ्र  - शीघ्रता से
      सपरिवार - परिवार सहित
      सानन्द - आनन्द सहित
      आजन्म - जन्म भर
               
2. तत्पुरुष समास - जिस सामासिक शब्द में दूसरे पद की प्रधानता होती है तथा विभक्ति चिह्न लुप्त हो जाता है, उसे तत्पुरुष समास कहते हैं; जैसे

      यश प्राप्त - यश को प्राप्त हुआ
      सुखप्रद - सुख को देने वाला
      जन्मांध - जन्म से अंधा
      जलमग्न - जल में मग्न
      आपबीती - अपने पर बीती
               
3. कर्मधारय समास - जिस सामासिक शब्द में उत्तर पद प्रधान होता है, उसे कर्मधारय समास कहते हैं। इसमें पूर्व पद विशेषण और उत्तर पद विशेष्य होता है; जैसे
             
      नीलकमल - नीला है जो कमल
      महात्मा - महान है जो आत्मा
      पुरुषोत्तम - पुरुषों में उत्तम
      चरणकमल - कमल के समान चरण
      चंद्रमुख - चंद्रमा के समान मुख

4. द्विगु समास - जिस सामासिक शब्द का प्रथम पद संख्यावाची और अन्तिम पद संज्ञा हो, उसे द्विगु समास कहते हैं; जैसे
 
      त्रिदेव - तीन देवताओं का समूह
      चौमासा - चार महीनों का समूह
      पंचवटी - पाँच वटों का समूह
      सप्तपदी - सात पदों का समूह
      सप्त सिंधु - सात नदियों का समूह
                 
5. द्वन्द्व समास - जिस सामासिक शब्द के दोनों पद प्रधान हों, दोनों पद संज्ञाएँ अथवा विशषण हो, उसे द्वन्द्व समास कहते हैं; जैसे

      राम-कृष्ण - राम और कृष्ण
      दाल रोटी - दाल और रोटी
      कंद-मूल - कद और मूल
      पाप-पुण्य - पाप या पुण्य
      भला-बुरा - भला या बुरा
                 
6. बहुब्रीहि समास - इस सामासिक पद में कोई भी शब्द प्रधान नहीं होता बल्कि दोनों शब्द मिलकर एक नया अर्थ प्रकट करते हैं; जैसे 

      नीलकंठ - नीला है कंठ जिसका अर्थात् शिव
      दुरंगा - दो रंगों वाला
      निर्जन - निकल गए जन जहाँ से
      चक्रपाणि - चक्र है हाथ में जिसके
      बड़बोला - बढ़-चढ़ कर बोलने वाला
         
 ध्यान दें !

• जिस समास में पूर्व खण्ड प्रधान होता है, वह अव्ययीभाव समास है।
• जिस समास में उत्तर खण्ड प्रधान होता है, वह तत्पुरुष समास है।
• जिस समास में दोनों खण्ड प्रधान होते हैं, वह द्वन्द्व समास है।
• जिस समास में दोनों खण्ड प्रधान नहीं हों, वह बहुव्रीहि समास है।

गुरुवार, 6 जून 2019

G.K - प्रसिद्ध पुस्तकें और उनके लेखक (prasiddh pustaken aur unake lekhak)



G.K - प्रसिद्ध पुस्तकें और उनके लेखक (prasiddh pustaken aur unake lekhak)













































































































































































पुस्तकलेखक
आइने अकबरीअबुल फजल
एलिस इन वन्डरलैण्डलीविस कैरोल
ईनीडवर्जिल
अनटोल्ड स्टोरी बी० एम० कौल
ऐफ्लूऐन्ट सोसायटी जे० के० गालब्रेथ
डिवाइन कॉमेडी दॉते
डिस्कवरी ऑफ इण्डियाजवाहर लाल नहेरू 
ग्लिम्पसिज ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री जवाहर लाल नहेरू
फोस्टगेटे
गीतांजलीरवीन्द्रनाथ टैगोर 
गुलिवर्स ट्रेविल्सजोनाथन स्विफ्ट 
एशियन ड्रामा गुन्नार मिर्डल 
इण्डिया वीन्स फ्रीडमअबुल कलाम आजाद 
लाइफ डिवाइनअरविन्द घोष 
लेनिन इन ज्यूरिचअलेक्जेण्डर सोल्जेनित्सिन 
मीन केम्फहिटलर
मदरमेक्सिम गोर्की 
नागानन्द हर्षवर्धन 
ओडेसी, इलियड होमेर
अर्थशास्त्रकौटिल्य
पंचतन्त्रविष्णु दत्त शर्मा 
पिलग्रिम्स प्रोग्रेसजॉन बेनयान 
राजतरंगिणी कल्हण
रिपब्लिक प्लेटो
शाहनामाफिरदौसी
भागवद् गीता, महाभारत वेदव्यास 
रामचरितमानस तुलसीदास
 द ब्लाइण्ड व्युटी बोरिस पेस्तरनेक 
गुलाग आर्कीपलागो अलेक्जेण्डर सोल्जेनित्सिन
क्राइम एण्ड पनिशमेन्ट दोस्तोवस्की 
उत्तररामचरित भवभूति
डॉ० जिवागो बोरिस पेस्तरनेक
 दि कुली, दि गोल्डन ब्रैथमुल्कराज आनन्द 
कादम्बरी, हर्षचरित  बाणभट्ट 
बुदरिंग हाइण्ट्स एमिली ब्रोटे 
अरेवियन नाइट्स सर रिचर्ड बर्टन 
फ्यूचर शॉकअलान टॉफलगर
गीत गोविन्दजयदेव 
 टु लाइट ए केण्डिल श्रीमती वैल्दी फिशर 
इण्डियन वार ऑफ इण्डिपेन्डेन्स बी० डी० सावरकर 
मर्डर इन द केथडरल, वैस्टलैण्ड टी० एस० इलियट

रविवार, 2 जून 2019

General knowledge (सामान्य ज्ञान) विश्व के महाद्वीप एवं प्रायद्वीप का क्षेत्रफल































































नाम (देश)क्षेत्रफल (वर्ग किमी में)
एशिया4,40,30,000
अफ्रीका2,97,85,000
यूरोप1,04,98,000
उत्तरी अमेरिका2,42,55,000
दक्षिणी अमेरिका1,77,98,500
ऑस्ट्रेलिया76,86,880
अण्टार्कटिका1,83,38,500
अरब का प्रायद्वीप 32,50,000
द० भारत का प्रायद्वीप 20,72,000
अलास्का का प्रायद्वीप 15,00,000
लेब्रोडोर का प्रायद्वीप 13,00,000
स्केण्डिनेविया का प्रायद्वीप 8,00,000
आईबेरियन का प्रायद्वीप5,84,000