Yoga Day kyo Manaya jata hai?





11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की. इसके बाद 2015 से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस दुनिया भर में मनाया जाता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए योग के महत्व पर चर्चा की थी.





योग का अभ्यास हमारे देश में प्राचीन काल से होता आया है. लेकिन धीरे-धीरे लोग इसके महत्व को भूल गए और यह कुछ लोगों तक ही सीमित रह गई. लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों में जागरुकता लाने के लिए 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' की शुरूआत की.





इसकी पहल प्रधानमंत्री मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी. उन्होंने योग के महत्व को बताते हुए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करने की बात कही थी. जिसके बाद 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया. पिछले साल 21 जून को ये पहली बार मनाया गया था.





योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य है; विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करने वाला है। यह व्यायाम के बारे में नहीं है, लेकिन अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है। हमारी बदलती जीवन- शैली में यह चेतना बनकर, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है। तो आयें एक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करते हैं।