You are here
Home > Sohar > bhojpuri sohar geet lyrics: लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो,

bhojpuri sohar geet lyrics: लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो,

bhojpuri sohar geet lyrics: लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो | by Sarita lokgeet

लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो,

ए ललना गूथे लगली, मोतियन की माला बीच ही बीच जाफर हो,(2)

लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो,

ए ललना गूथे लगली, मोतियन की माला बीच ही बीच जाफर हो,(2)

अंगने में खाड़ी ननदियां, बिरहीया बोलि बोलेले हो,

ए भाभी कतनों जतन तहू करबू बेटी तोहरा होईहे ना हो,(2)

ऐतना बचन बहुआ सुनेली, सुनहूं ना पावेली हो,

ए ललना रोवे लगली, जाई महलिया बड़ा दुख भाईले ना हो,

ए ललना रोवे लगली, जाई भौजाइया बड़ा दुख भाईले ना हो,

जाई भौजाइया मंदिलीया, करें शिव के पुजनवा ना हो,

ए शिवजी देइदिना एगो होरिलवा, अरज मोरी भारी ना हो,(2)

भर राती गइले पहर राती, आवरू पछीलां राती हो,

ए ललना जामी गइले एगो होरिलवा, महल उठे सोहर हो,(2)

दौडल भागल ननदीया अइली, आपन नेग मागे ली हो,

ऐ ननद याद करा अपनी बचनिया, त नेग हम देहब हो,

ऐ ननदी मनपरा अपनी बचनिया, त नेगवा हम देहब हो।

One thought on “bhojpuri sohar geet lyrics: लिपि ही पोती अंगनवा, भौजी जाई बइठेली हो,

Leave a Reply

Top