sohar lyrics | sohar lyrics in hindi | सोहर लिरिक्स | sohar geet lyrics | by Sarita lokgeet





भादो की रतिया अन्हरिया बदरिया रिमझिम बरसेला हो,





ललना कान्हा के भइले जन्मवा जेहलवा के भीतर हो,





सुती गइले सगरे सिपाही त खुली गईले बेडिया ना हो,





ए ललना देवकी के जीअरा हरशाई गइले ने करेजवा जुड़ाई गइले हो,





डोलिया में ले ले बाबा चलले गोकुल पहुचावले हो,





ए ललना बिचवे में जमुना बढ़ी अइली कान्हा गोडवा छुवेली हो,





धनी धनी भाग यशोदा माई जिनका गोदी हरी खेले हो,





ए ललना धनी रे नंद बाबा के महलिया महलिया उठे सोहर हो,





नंद बाबा दवेले धनवा यशोदा माई गईया ना हो,





ए ललना घरे घरे बाजेला बधाइयां गोकुल उठे सोहर हो,