You are here
Home > Sohar > sohar geet hindi lyrics: भादो के रतिया अनहरिया बदरिया रिमझिम बरसेला हो

sohar geet hindi lyrics: भादो के रतिया अनहरिया बदरिया रिमझिम बरसेला हो

sohar geet hindi | sohar geet hindi lyrics | by Sarita lokgeet

भादो के रतिया अनहरिया बदरिया रिमझिम बरसेला हो,

ऐ ललना घर में से निकली बहुरिया त साजन के जगावे ली हो,(2)

तुहु त राजा निरमोहिया बुलाई नाही बोले ला हो,

ए राजा क्षणभर देव बरसेले महलिया चुवेला हो,(2)

तू हूं त धनिया सर्वे गुणवा आगर न हो,

ऐ धनिया सूती रहा हमरी अटरिया महलिया चूऐ लागल हो,(2)

आग लागो सोने के महलिया त आग लागो सेजिया ना हो,

ए सईया जियारा हमार व्याकुल निंद नाही अावेला हो,(2)

जाई धनि लेटली महालिया कमर पीर आवेला हो,

ए ननद हम देबो सोने के झूमूकवा त जान हमरी बचाव हूं हो,(2)

होत सवेरे किरन फूटी जाला ना हो,

ए लल्ला जामी गइले गोदिया नंदलाल महल उठे सोहर हो,

ए लल्ला जामी गइले बबुआ नंदलाल महल उठे सोहर हो,

ए लल्ला जामी गइले गोदिया बलाकवा महल उठे सोहर हो,

One thought on “sohar geet hindi lyrics: भादो के रतिया अनहरिया बदरिया रिमझिम बरसेला हो

Leave a Reply

Top