You are here
Home > Sohar > sohar geet lyrics: सैया जी से डमरु मंगवाईब त शिवजी के चढ़ाई हो | by Sarita lokgeet

sohar geet lyrics: सैया जी से डमरु मंगवाईब त शिवजी के चढ़ाई हो | by Sarita lokgeet

sohar geet lyrics: सैया जी से डमरु मंगवाईब त शिवजी के चढ़ाई हो | by Sarita lokgeet

मचीयानी बठेली सासु बहुआ अरज करे हो,ए अम्मा ले चली शिव जी के मंदिरिया त हम पूजा करब हो,

शिवजी के पूजीला पूजत एक विनती क॒रीला हो, शिवजी देदीना गोदी में बालकवा विनय मोरी भारी,

नां हो शिवजी देदीना गोदिया में बलकवा त डमरु चढ़ाईब॒ हो, अाठ महीना बितले नवा चढी गइले हों,

ए ललना जामी गइले, बबुआ नंदलाल महल उठे सोहर हो,

मचीयानी बैठेली सासु त बहूआ अरज कई ली हो,
ए अम्मा सोनवा के डमरु मंगाई त शिवजी के चढ़ाईब न हो,

एतना बचन सासु सुनेली सुनही ना पावे ली हो, ए बबुआ नईहर से डमरू मगईह शिवजी के चढ़ई हो,

एतना बचन बहुआ सुनेली सुनही ना पावेली हो, ए अम्मा सैंया जी से डमरु मंगाई शिवजी के चढ़ाई हो।

इसे भी पढ़ें:-

बहुआ के उठेला दरदिया

ऊपर दिए गए इस लिरिक्स को आप वीडियो में भी सुन सकते है। वीडियो में सुनने के लिए नीचे वीडियो देखें।

One thought on “sohar geet lyrics: सैया जी से डमरु मंगवाईब त शिवजी के चढ़ाई हो | by Sarita lokgeet

Leave a Reply

Top