You are here
Home > Sohar > बहुआ के उठेला दरदिया

बहुआ के उठेला दरदिया

बहुआ के उठेला दरदिया, मैं दर्दे व्याकुल हो,

ऐ ललना पियवा चलले अम्मा लिआवन, दुअरे पर से फिर अइले हो ,

ए धनिया हमरे ही दाड धके काख त, अम्मा नाही आवेली हो,

पियवा के दाड धके काखेली, पियवा लजा गइले हो ,

ए धनिया आजूए से खईबो किरियवा, सेजरिया तोहरा ना अइबो हो,

बबुआ के 6 दिन छठी करबो, 12 दिन पर बरही ना हो,

ए ललना बरही के दिन सेजिया डासब, सेजरिया रउवा आवे के पड़ी,

One thought on “बहुआ के उठेला दरदिया

Leave a Reply

Top