You are here
Home > Sohar > sohar geet hindi lyrics: दर्दे से व्याकुल बहुरिया त घर आंगन एक करे हो

sohar geet hindi lyrics: दर्दे से व्याकुल बहुरिया त घर आंगन एक करे हो

hindi sohar lyrics | sohar geet hindi lyrics | sohar hindi lyrics | sohar hindi mai lyrics | by Sarita lokgeet

इसे भी पढ़िए:-

दर्दे से व्याकुल बहुरिया त घर आंगन एक करे हो

ए ललना सांझे से बाणे दरदिया त दरदे व्याकुल हो -2

दर्दे से व्याकुल बहुरिया त घर आंगन एक करे हो

ए ललना सांझे से बाणे दरदिया त दरदे व्याकुल हो -2

पहली पीर आइले बहुरिया त सासु के जगावे ली हो

ए अम्मा हमरा के होखे ला दरदिया त सहा नहीं जाला हो -2

दूसरी पीर आइले बहुरिया त गोतीन चली आवेली हो

ए दीदी हमरा के होला दरदिया त सहा नहीं जाला हो -2

सासु सुघरावेली गोतीन सुघरावेली हो,

ए ललना तीसरे पीर मे भईले होरिलवा महलिया उठे सोहर हो -2

ललना जन्म सुनी पियवा आईले धनी खुश भईली ना हो

एलाना बाजे लागल आनंद बधाइयां महलीया उठे सोहर हो

एलाना बाजे लागल आनंद बधाइयां महल उठे सोहर हो

Leave a Reply

Top