Gari geet lyrics in bhojpuri, gari geet lyrics in hindi, gari geet hindi lyrics, gari geet bagheli lyrics, gari geet lyrics, by Sarita lokgeet



गोरे गोरे हाथवा में हरी हरी चूड़ियां हो कि अब अगल-बगल शोभे कंगना हाय सियाराम से बनी।      
गोरे गोरे हाथवा में हरी हरी चूड़ियां हो कि अब अगल-बगल शोभे कंगना हाय सियाराम से बनी।                         

कंगना पहीन चलली अगुआ के बहीना हो,कि अब घूमी घूमी मांगेली जोरानवा हाई सियाराम से बनी। 

अपना महालिया से निकलेले कवन देव कि अब हम देबो तोहे जो रनवा हाय सियाराम से बनी।                  

ली ही जोरानवा छिनरो कइली अस गुनवा हो , कि अब रह गइले गोदिया ललनवा हाय सियाराम से  बनी। 

गोरे गोरे हाथवा में हरी हरी चूड़ियां हो कि अब अगल-बगल शोभे कंगना हाय सियाराम से बनी।